नई दिल्ली, 20 अगस्त. दिल्ली पुलिस आज हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा का ब्रेन मैपिंग टेस्ट कराने के विकल्प पर विचार कर रही है। गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले के प्रमुख आरोपी कांडा जांच में सहयोग करने से इंकार कर रहा है। दस दिन तक गिरफ्तारी से बचने के बाद कांडा ने शनिवार की सुबह पुलिस के समक्ष समर्पण किया।

कांडा की अब बंद हो चुकी एयरलाइन एमडीएलआर की पूर्व कर्मचारी गीतिका ने कांडा और एक अन्य वरिष्ठ सहयोगी अरूणा चड्ढा पर खुद को प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है। 23 वर्षीय गीतिका पांच अगस्त को उत्तर पश्चिम दिल्ली स्थित अपने आवास पर मृत पाई गई थी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि कांडा पूछताछ के दौरान गोलमाल जवाब देता है और गीतिका से कोई संबंध होने से इंकार करता है। यह पूछे जाने पर कि क्या पुलिस उसका ब्रेन मैपिंग परीक्षण कराएगी, पुलिस उपायुक्त (उत्तर पश्चिम) पी करूणाकरन ने कहा, अगर जरूरी हुआ तो हम परीक्षण कराएंगे। हम उसे उन सभी स्थानों पर ले जाएंगे जहां हमें लगेगा कि जांच की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि अब तक कुछ भी पता नहीं चल पाया है और अगर कुछ पता चला तो मैं आपको बताउंगा। करूणाकरन ने कहा कि कांडा ने उनको बताया कि आत्मसमर्पण से पहले दस दिन तक वह सिरसा में था। उन्होंने कहा, वह सहयोग नहीं कर रहा है। पुलिस की योजना घटनाक्रम की बिखरी कडिय़ों को जोडऩे के लिए कांडा का सामना अरूणा चड्ढा से कराने की है जिनके चलते गीतिका ने आत्महत्या की थी। जांचकर्ताओं ने कांडा के गुडग़ांव स्थित कार्यालय से कंप्यूटर और दस्तावेज भी जब्त कर लिए हैं। स्थानीय अदालत ने कांडा को कल सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया।

दल इस मामले में आगे की जांच के लिए कांडा को लेकर उसके सिविल लाइन्स स्थित आवास ले गया। सूत्रों ने कहा कि वह कुछ कंप्यूटरों की हार्ड डिस्क की खोज कर रहे हैं जिनसे जांच में मदद मिल सकती है। गीतिका की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उसकी मौत फांसी लगाने से हुई। रिपोर्ट में कहा गया है कि वीर्य और डीएनए जांच के लिए योनिस्राव के सीलबंद नमूने स्लाइड के साथ संरक्षित कर लिये गये थे जिन्हें पुलिस को सौंप दिया गया है।

Related Posts: