जामनगर में चल रहा था भारतीय वायुसेना का रूटीन अभ्यास

जामनगर (गुजरात), 30 अगस्त. एयरफोर्स के दो एमआई-17 हेलिकॉप्टर जामनगर एयरबेस से उड़ान भरने के कुछ देर बाद ही हवा में टकरा गए. जामनगर से 15 किलोमीटर दूर सरमत गांव के पास हुए इस हादसे में भारतीय वायुसेना के नौ कर्मचारियों की मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि हादसा रूटीन अभ्यास के दौरान हुआ. इसकी वजहों के बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा गया है लेकिन सूत्रों का कहना है यह मानवीय गलती के चलते हुआ. संभवत: पायलट हेलिकॉप्टर की स्थिति के बारे में सही आकलन नहीं कर पाए. वायुसेना और स्थानीय प्रशासन के सूत्रों का कहना है कि दोनों हेलिकॉप्टरों में सवार सभी नौ लोगों की मौत हो गई. टक्कर के बाद एक हेलिकॉप्टर में आग लग गई. पुलिस और एयरफोर्स के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए हैं. पीआरओ कैप्टन एम.जी. मेहता ने बताया कि दोनों हेलिकॉप्टरों ने बेस से दोपहर 12 बजे उड़ान भरी और 12 बजकर 5 मिनट में हमारे पास हादसे की खबर आ गई. उन्होंने बताया कि हादसा वायुसेना क्षेत्र में होने की वजह से आम लोगों को कोई नुकसान नहीं हुआ है.

गुजरात में लगातार दूसरे दिन हेलिकॉप्टर दुर्घटना की खबर आई है. इससे पहले बुधवार को गोधरा में आसाराम बापू का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था. इस हादसे में आसाराम बापू समेत पांच लोगों की हल्की चोटें आई थी. डीजीसीए ने इस हादसे की जांच शुरू कर दी है. मुंबई से पहुंची जांच टीम के सदस्यों ने गोधरा में दुर्घटना स्थल का दौरा किया है.

कई देशों का प्रमुख हथियार है एमआई-17

एमआई -17 हेलिकॉप्टर सोवियत यूनियन द्वारा पहली बार बनाया गया था. यह हेलिकॉप्टर कई देशों की वायु सेना में एक अहम भूमिका निभाता है. यह हेलिकॉप्टर देश की वायु सेना में लड़ाकू हथियार के तौर पर काम करता है. अफगान आर्मी, यूएस आर्मी, रसियन आर्मी,श्रीलंकन आर्मी, इंडियन आर्मी सभी के पास बड़ी तादाद में मौजूद है. यह हेलिकॉप्टर एक साथ सेना के 30 से अधिक बटालियन व 13 सैनिकों को ले जा सकता है. यह हेलिकॉप्टर सेना के हथियार व भारी तादाद में युद्ध की अन्य सामग्रियों को लेजाने में सक्षम है.  भारत को एमआई 8 के बदले एमआई-17 मुहैया कराने की योजना बनाई गई थी. भारत ने इस वर्ष 80 एमआई-17 हेलिकॉप्टर खरीदने की योजना बनाई थी, जिसमें भारतीय वायु सेना को यह हेलिकॉप्टर वर्ष 2010-2014 तक मुहैया कराने की बात कही गई थी. लेकिन वर्ष 2012 तक सेना के पास 50 से अधिक हेलिकॉप्टर आए हैं.

फिलहाल भारत के पास सबसे अधिक मात्रा में यह हेलिकॉप्टर मौजूद है. कार्गिल युद्ध के दौरान इस हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल किया गया था. यही नहीं यह हेलिकॉप्टर काफी पहले से युद्ध में इस्तेमाल किए जाते हैं. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भी इन हेलिकॉप्टरों का इस्तेमाल किया गया था.

Related Posts: