परिवार की सलाह के बाद होगी आधिकारिक घोषणा?, न्यूजीलैंड सीरीज आखिरी सीरीज

हैदराबाद, 17 अगस्त. भारतीय बल्लेबाजी की त्रिमूर्ति में से एक राहुल द्रविड संन्यास ले चुके हैं जबकि दुनिया के बेहतरीन टेस्ट बल्लेबाजों में शुमार और संकटमोचक माने जाने वाले वी वी एस लक्ष्मण न्यूजीलैंड के खिलाफ इसी महीने शुर हो रही दो मैचों की टेस्ट सीरीज के बाद संन्यास लेने पर विचार कर रहे हैं. लक्ष्मण की इस सोच के बाद इस त्रिमूर्ति की सबसे बडी कडी मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर पर भी संन्यास लेने के लिए दबाव बढ सकता है.

द्रविड ने इस वर्ष आस्ट्रेलिया के निराशाजनक दौरे के बाद क्रिकेट के हर प्रारूप को अलविदा कह दिया था. इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया दौरों पर टीम इंडिया की टेस्ट सीरीज में 0-4 से शर्मनाक पराजय के बाद सीनियर खिलाडिय़ों पर उंगलियां उठने लगी थी और उन पर आरोप लगाए जा रहे थे कि उनकी वजह से युवा खिलाड़ी आगे नहीं आ पा रहे हैं. श्रीमान भरोसेमंद और टीम इंडिया की दीवार कहे जाने वाले द्रविड ने इसी के चलते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया था और अब लक्ष्मण भी क्रिकेट की दुनिया से विदा लेने की तैयारी में हैं, लक्ष्मण यदि न्यूजीलैंड के बाद संन्यास ले लेते हैं तो फिर सचिन पर दबाव बढ जाएगा कि वह खेल के किसी एक प्रारूप से संन्यास लें.

37 वर्षीय लक्ष्मण न्यूजीलैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज में नहीं खेलना चाहते थे लेकिन वह शायद घरेलू दर्शकों के सामने खेलने का मोह नहीं छोड पाए. कीवी टीम के खिलाफ पहला टेस्ट 23 अगस्त से हैदराबाद में शुरु होगा जो घरेलू दर्शकों के सामने उनका दूसरा टेस्ट होगा. लक्ष्मण ने कहा कि वह संन्यास के बारे में अपने करीबी लोगों से बात कर रहे हैं. भारत के लिए कई यादगार पारियां खेलने वाले लक्ष्मण ने अपना करियर 1996 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुरु किया था. उनके खाते में 134 टेस्टों में 8781 रन हैं जिनमें 17 शतक और 56 अर्द्धशतक शामिल हैं. लक्ष्मण ने 86 वनडे में छह शतकों के साथ 2338 रन भी बनाए हैं.

टेस्ट और वनडे में सर्वाधिक मैच, सर्वाधिक रन और सर्वाधिक शतकों के विश्व रिकार्डधारी सचिन हालांकि टेस्ट तो बराबर खेल रहे हैं लेकिन वनडे सीरीज में उन्होंने खुद को सीमित कर दिया है और वह गिनीचुनी वनडे सीरीज ही खेल रहे हैं. सचिन मार्च में एशिया कप में उतरे थे और उन्होंने अंतरराष्ट्रीय शतकों का शतक पूरा किया था. लेकिन हाल में श्रीलंका में हुई पांच वनडे मैचों की सीरीज से उन्होंने विश्राम लिया था. 39 वर्षीय सचिन फिलहाल न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की सीरीज के लिए पूरी गंभीरता के साथ जुटे हुए हैं लेकिन यदि लक्ष्मण न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के बाद संन्यास ले लेते हैं तो निश्चित ही मास्टर ब्लास्टर पर भी दबाव बढ़ जाएगा.

सचिन के खाते में 188 टेस्टों में 54.44 के औसत से 15470 रन दर्ज हैं जिनमें 51 शतक शामिल हैं. सचिन ने वनडे में 463 मैचों में 18426 रन बनाए हैं और इस प्रारूप में उन्होंने 49 शतक तथा 96 अर्द्धशतक लगाए हैं. यह माना जा रहा है कि सचिन वनडे में भी शतकों का अर्द्धशतक पूरा करना चाहते हैं.

आईपीएल के लिए होनी चाहिए विंडो

लंदन. भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने आईपीएल को अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर में विंडो देने की वकालत करते हुए कहा है कि इससे न केवल दुनिया के बेहतरीन खिलाडिय़ों को इस लीग में खेलने का मौका मिलेगा बल्कि वे टेस्ट क्रिकेट में भी अपने देश का प्रतिनिधित्व कर सकेंगे.

द्रविड़ ने इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच लार्ड्स में चल रहे तीसरे टेस्ट के दौरान कार्यक्रम टेस्ट मैच स्पेशल में कहा सच्चाई यह है कि आईपीएल एक अहम टूर्नामेंट बन चुका है और हर खिलाड़ी इसमें खेलने का इच्छुक है. अब हम ऐसी स्थिति में पहुंच रहे हैं जहां हमें कुछ समझौता करना पड़ सकता है. आईपीएल के लिए विंडो का इंतजाम किया जा सकता है या फिर टूर्नामेंट को थोड़ा छोटा किया जा सकता है. उल्लेखनीय है कि इंग्लैंड के स्टार बल्लेबाज केविन पीटरसन और इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड  के बीच बढ़ते मतभेदों के लिए आईपीएल को ही जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. इस बारे में पूछने पर द्रविड़़़़़ ने कहा कि वह इस बारे में निश्चित तौर पर कुछ नहीं कह सकते हैं कि पीटरसन के मामले में आईपीएल की कितनी भूमिका है. द्रविड़ एमसीसी क्रिकेट कमेटी की बैठक में हिस्सा लेने लंदन आए हैं.

आईपीएल-पांच में राजस्थान रायल्स के कप्तान रहे द्रविड़ ने कहा कि आईपीएल का कार्यक्रम इंग्लिश टीम के टेस्ट कार्यक्रम से टकरा रहा है और टेस्ट क्रिकेट पीटरसन और क्रिस गेल जैसे स्टार खिलाडिय़ों को खोने का जोखिम नहीं उठा सकता है. द्रविड़ से जब यह पूछा गया कि क्या आईपीएल के प्रति अत्यधिक आकर्षण के कारण ही केविन पीटरसन को इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड से दुराव और टीम साथियों से मनमुटाव को मजबूर होना पड़ा. इस पर द्रविड़ ने कहा पक्के तौर पर ऐसा नहीं कहा जा सकता है. आगे इसके लिए समाधान ढूंढना जरूरी है. टेस्ट क्रिकेट पीटरसन या क्रिस गेल जैसे बड़े नामों का खुद से दूर होना बर्दाश्त नहीं कर सकता है. द्रविड़ ने कहा आईपीएल में कई अच्छी बातें हैं.

आपको यह समझना चाहिए कि यदि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में खेलने और दर्शक देखने के लिए आतुर हों तो जरूर इसमें कुछ अच्छा रहा होगा. आईपीएल से इंग्लैंड के घरेलू सीजन पर कोई फर्क नहीं पड़ता है. इंग्लैंड का सीजन वर्षों से ऐसा ही है. इसलिए थोड़ी सी चुनौती जरूर है. उन्होंने कहा हम ऐसे समय में पहुंच चुके हैं जहां हर कोई चाहता है कि टेस्ट क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी खेलें सभी चाहते हैं कि क्रिस गेल वेस्टइंडीज की टेस्ट टीम में हों. कोई ऐसा नहीं चाहेगा कि आज की तरह पीटरसन इंग्लैंड की टेस्ट टीम से बाहर बैठें. चाहे इसका कारण जो भी हो. यह स्थिति निराशाजनक होती है.

Related Posts: