बाबा आज करेंगे नया खुलासा

नई दिल्ली, 12 अगस्त. काला धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ दिल्ली के रामलीला मैदान में आंदोलन कर रहे योग गुरु बाबा रामदेव ने रविवार को केंद्र सरकार और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। काला धन पर कार्रवाई के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को रविवार शाम तक का वक्त दिए जाने के बाद भी सरकार की तरफ से कोई सुगबुगाहट न होने पर तल्खी में आए योग गुरु ने कांग्रेस और सरकार की नीयत पर सवाल उठाए।

रामदेव ने आरोप लगाया कि चंद लोगों ने देश को नीलाम कर दिया। योग गुरु ने कहा कि कालाधन एवं भ्रष्टाचार से जुड़ी उनकी मांगों का समर्थन न करने वाली राजनीतिक पार्टियों का वह महाक्रांति के जरिए सामाजिक एवं राजनीतिक बहिष्कार करेंगे। रामदेव ने कहा कि इस महाक्रांति का स्वरूप क्या होगा, इसके बारे में वह सोमवार को घोषणा करेंगे। सरकार पर बरसते हुए योग गुरु ने आरोप लगाते हुए कहा कि देश लुट रहा है लेकिन सरकार देश को बचाने की जगह हाथ पर हाथ धरे बैठी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने माना है कि उनकी मांगें जायज हैं लेकिन मांगें यदि जायज हैं तो सरकार इन मांगों पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है।

योग गुरु ने सरकार पर बरसते हुए कहा कि देश की खुफिया एजेंसियों ने 50 हजार ऐसे लोगों के नाम सौंपे हैं जिन्होंने विदेशों में काला धन जमा कर रखा है लेकिन सरकार इन नामों का खुलासा नहीं कर रही। उन्होंने कहा कि काला धन राष्ट्रीय संपित्त धोषित होनी चाहिए। रामदेव ने कहा कि देश अगर ईमानदार है तो सरकार भी ईमानदार होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि एफडीआई के जरिए देश में 20 लाख करोड़ रुपये देश में आया है और यह धन काला धन की कुंजी है। सरकार इस राशि के मालिकों के नाम उजागर नहीं कर रही है।

रामदेव ने कहा कि कालेधन को लेकर वह हर मोर्चे पर लड़ेंगे। लोकपाल विधेयक पर योग गुरु ने कहा कि यदि यह विधेयक पारित हो गया तो कैबिनेट के 90 प्रतिशत लोग जेल में होंगे। रामदेव ने हालांकि आगे की रणनीति का खुलासा नहीं किया लेकिन संकेत दिया कि उनके समर्थक जेल जाने को तैयार रहें। उन्होंने कहा कि आंदोलन पर फैसला हो गया है और आने वाले समय में जंग होगी। रामदेव ने कहा कि उन्होंने सरकार को पूरा मौका दिया। तीन दिनों तक सरकार ने कोई जवाब नहीं दिया। अब उन पर सरकार को कोई बदनाम करने का आरोप नहीं लगा सकता। प्रधानमंत्री खुद अपने कर्मों से बदनाम हो रहे हैं। हमें उनको बदनाम करने की जरूरत नहीं है। बाबा ने कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व्यक्तिगत रूप से ईमानदार है लेकिन यहां सवाल तो राजनीतिक रूप से ईमानदारी दिखाने का है। बाबा ने आरोप लगाया कि कांग्रेस प्रधानमंत्री को ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रही है। अगर प्रधानमंत्री ईमानदार हैं तो वे उनकी मांगों पर अमल कर कार्रवाई करें।

गरजीं किरण बेदी

भ्रष्टाचार के खिलाफ एकजुटता पर जोर देते हुए किरण बेदी आज रामलीला मैदान में बाबा रामदेव के मंच पर पहुंचीं। बेदी न कहा कि उन्हें भ्रष्टाचार के खिलाफ एक संयुक्त मोर्चा बनाना होगा और भ्रष्ट लोगों के खिलाफ गठजोड़ बनाना होगा। आज ही अन्ना के साथियों की एक बैठक में भाग लेने के बाद रामलीला मैदान पहुंचीं बेदी ने कहा, ‘बिना जागरुकता के, बिना समझ के या बिना सरकारी नीति की समीक्षा के हम हमेशा धोखा खाते रहेंगे।’ अन्ना के कुछ सहयोगी रामदेव के साथ साझेदारी से सहमत नहीं दिखाई देते जबकि दोनों ने एक दूसरे के आंदोलन में सहयोग देने की घोषणा की थी।

Related Posts: