भोपाल,9 मई,नभासं. श्री महेश्वर जल विद्युत निगम लिमिटेड ने कहा है कि केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा महेश्वर बांध में 154 मीटर जल भराव को मंजूरी दिये जाने से इस परियोजना में शीघ्र बिजली उत्पादन शुरू होने की संभावना बनी है.

वन एवं मंत्रालय ने हाल ही इसे अपनी मंजूरी दी है इस मंजूरी से परियोजना के शेष बचे पुनर्वास कार्य को युद्ध स्तर पर पूरा करने में मदद मिलेगी और बिजली उत्पादन भी यथाशीघ्र शुरू किया जा सकेगा. उन्होंने कहा कि मंत्रालय के इस निर्णय से बांध प्रभावित परिवार भी यथाशीघ्र पुनर्वासित स्थान पर जाने के लिए प्रेरित होंगे.

इस परियोजना से मध्य प्रदेश के लगभग 25 प्रतिशत विद्युत मांग की पूर्ति होने के साथ ही इंदौर और इसके आसपास के क्षेत्रों के 25 लाख से अधिक आबादी को पीने के पानी की समस्या का हल भी हो सकेगा. इस परियोजना का नर्मदा बचाओ आंदोलन द्वारा किये जा रहे विरोध को तर्कहीन बताते हुये कहा कि आंदोलन ने 154 मीटर तक जलभराव से प्रभावित गांवों के डूब क्षेत्र में आने की बात कही थी जो इस  मंजूरी से गलत   साबित हो गयी है. आरोप लगाया जा रहा है कि आंदोलन अपने निहीत स्वार्थों के कारण परियोजना में गतिरोध उत्पन्न कर रहा है.

Related Posts:

350 एकड़ की फर्जी रजिस्ट्री
मुखिया गुप्ता की सोच सार्थक व कर्मियों को करना संतुष्ट
राज्य में उद्योगों की स्थापना के लिए उपयुक्त माहौल
भविष्य में पानी बनेगा राजनीतिक मुद्दा
कलेक्टर ने अधिकारी एवं कर्मचारियों से कहा खरीदे 50-50 किलो प्याज
मध्यप्रदेश के सभी शासकीय महाविद्यालय भवन में राष्ट्रीय ध्वज लगाने के निर्देश