पर्यावरण विभाग की बैठक में हुआ निर्णय

भोपाल 4 मई. नर्मदा को प्रदूषण मुक्त करने के लिये शासन स्तर पर व्यापक कदम उठाने के साथ इस कार्य को जन-आन्दोलन बनाया जायेगा. अमरकंटक, ओरछा तथा चित्रकूट के प्राकृतिक पर्यावरण को सुरक्षित रखते हुए इन नगरों का सौन्दर्यीकरण किया जायेगा.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा यह निर्णय आज पर्यावरण विभाग की बैठक में लिये गये. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि प्रदेश के नगरों के पर्यावरण तथा विकास संबंधी मसलों पर निर्णय लेने के लिए सभी नगर निगम तथा अन्य बड़े शहर की भोपाल में बैठकें बुलायी जायं. इन बैठकों में नगरों के मास्टर प्लान, मध्यम तथा निम्न आय वर्ग के लोगों को कम कीमत पर भू-खण्ड अथवा आवास उपलब्ध करवाने के बारे में व्यवहारिक निर्णय लिये जायेंगे. आने वाले सिंहस्थ की तैयारियों सहित नदियों को प्रदूषण-मुक्त करने के बारे में ठोस पहल होगी.

बैठक में भोपाल के मिंटो हाल के जीर्णोद्धार, वल्लभ भवन के विस्तार के बारे में भी चर्चा हुई. बताया गया कि पर्यटन विभाग को मिंटो हाल के जीर्णोद्धार की जिम्मेदारी सौंपी गयी है. मुख्यमंत्री ने इस ऐतिहासिक भवन के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिये. वल्लभ भवन के विस्तार के बारे में बताया गया कि आर्किटेक्ट की नियुक्ति सहित अन्य अपेक्षित कार्रवाई प्रारम्भ की गयी है. बैठक में निर्णय लिया गया कि शासकीय विभागों को पृथक-पृथक भवन बनाने के लिये भू-खण्ड उपलब्ध कराने की जगह इंटीग्रेटेड काम्पलेक्स बना कर कार्यालय स्थापित करने की सुविधा दी जायेगी. बैठक में पर्यावरण मंत्री  जयंत मलैया, मुख्य सचिव आर.परशुराम, प्रमुख सचिव आवास एवं पर्यावरण इक़बाल सिंह बैंस, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव  मनोज श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव वित्त अजय नाथ सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

Related Posts: