नई दिल्ली, 1 दिसंबर. केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम ने नक्सल प्रभावित राज्यों में खुफिया जानकारी के आधार पर प्रभावशाली अभियान चलाने पर जोर देते हुए सीमा सुरक्षा बल [बीएसएफ] में 800 से अधिक नए पदों के सृजन का ऐलान किया। उन्होंने बीएसएफ से कहा कि वे माओवादियो के खिलाफ अभियान में अपने कौशल और रणनीति का इस्तेमाल करें।

चिदंबरम ने बीएसएफ के स्थापना दिवस के मौके पर बल के जवानों और अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा, मैं बीएसएफ से आग्रह करूंगा कि वे अपने कौशल और रणनीति को उन्नत बनाना जारी रखें और नक्सल विरोधी कार्रवाई में उसका इस्तेमाल करें। गृहमंत्री ने यकीन जताया कि बीएसएफ सफलता हासिल करने के लिए खुफिया जानकारी आधारित अभियाल चलाने के लिए आदर्श रूप से तैयार है और प्रशिक्षित भी। बीएसएफ छत्तीसगढ़ और उड़ीसा में नक्सल विरोधी अभियान के लिए तैनात दस बटालियनों के अलावा दो और बटालियनें [लगभग 2000 जवान] तैनात करने की प्रक्रिया शुरू कर रही है। चिदंबरम ने कहा, मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि सरकार ने बीएसएफ को मजबूत करने के एक बडे प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। प्रशिक्षण क्षमताओं को मजबूत करने के लिए 1520 पद, इंजीनियरिंग विंग के लिए 450 अतिरिक्त पद और बीएसएफ-जी के लिए 825 पद होंगे। बीएसएफ की जी शाखा अभियान के दौरान बल की रीढ़ की हडडी की तरह काम करती है।

Related Posts: