वरिष्ठों को दिया जा रहा है पूरा सम्मान

लखनऊ, 22 अगस्त. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राज्य में सत्ता के कई केन्द्र होने से इनकार करते हुए आज कहा कि सरकार में वरिष्ठों को सम्मान देने का यह अर्थ लगाना सर्वदा अनुचित है .

अपने सरकारी आवास पर विशेष साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि वह वरिष्ठों का सम्मान करते हैं और उनसे राय मशविरा करके ही महत्वपूर्ण निर्णय लेते हैं . इसका यह मतलब निकालना बिल्कुल गलत है कि प्रदेश में सत्ता के एक से अधिक केन्द्र हैं . श्री यादव ने गत 15 मार्च को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पहली बार पार्टी की राजनीति पर बात करते हुये कहा कि प्रदेश के वरिष्ठ मंत्री एवं उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव, पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव व वरिष्ठ मंत्री मोहम्मद आजम खां. उनके पिता एवं समाजवादी पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव के साथ काम कर चुके हैं और वह उनको यथोचित सम्मान देते रहेंगे .

उनका मानना है कि सम्भवत. उनकी कम उम्र विरोधियों को अनाप शनाप बोलने का मौका दे रही है लेकिन सरकार चलाने में अंतिम निर्णय हमेशा उन्हीं का रहेगा . श्री अखिलेश यादव ने कहा कि उनके परिवार के संस्कार उनको हमेशा वरिष्ठों का सम्मान करने की प्रेरणा देते हैं और सरकार चलाने में भी वह इन परम्पराओं का पालन करेंगे. उन्होंने जोरदार शब्दों में खंडन किया कि सपा अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव अथवा किसी अन्य वरिष्ठ का सरकार चलाने में कोई दखल है. उन्होंने कहा कि वह पूरी स्वतंत्रता के साथ काम कर रहे हैं. अपने मिलनसार व्यवहार और सहज उपलब्धता के लिये मशहूर उत्तर प्रदेश के 39 वर्षीय मुख्यमंत्री के बारे में इस तरह की रिपोर्ट आती रहती है कि उनकी कार्यशैली में उनके पिता और अन्य लोगों का दखल है.उन्होंने ऐसी रिपोर्टो को दरकिनार करते हुए कहा कि झूठी राजनीतिक निंदा के भय से वह अपना व्यवहार बदलने वाले नहीं हैं. श्री यादव ने कहा यह आश्चर्य की बात है कि उनके द्वारा शुरु की गयी जन.कल्याण एवं विकास योजनाओं से अधिक प्रदेश में अनेक सत्ता केन्द्र होने का अनर्गल,तथ्यहीन.

और आधारहीन. प्रचार किया जा रहा है. श्री यादव ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संभवत: उनकी सरकार जनता की सरकार के रुप में इतनी जल्दी स्थापित हो गयी जो विरोधियों को रास नहीं आ रहा है. उन्होंने पूछा कि कितनी सरकारें होगीं जो सत्ता में आने के छह माह के भीतर ही अपनी पार्टी की चुनावी घोषणाओं में 90 प्रतिशत पूरी कर चुकी हों. उन्होंने कहा कि बहुत जल्द ही उनके सभी चुनावी वायदे पूरे हो जायेंगे जिसमें बेरोजगारी भत्ता तथा कक्षा दस और 12वीं छात्रों को मुफ्त लैपटाप एवं टेबलेट देना शामिल है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने किसी विरोधी दल का नाम लिये बगैर कहा कि प्रदेश में कई वर्षों बाद ऐसी सरकार बनी है जिसके मंत्री और अधिकारी जनसमस्याओं के प्रति जागरुक हैं और जनता से नियमित रुप से मिलते हैं. उन्होंने इस बात से भी इनकार किया कि अधिकारी अभी भी पिछली सरकार की खुमारी में हैं और जनता से दूर रहना पंसद करते हैं. उन्होंने कहा इस संबंध में स्पष्ट आदेश हैं और शिकायत मिलने पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी.

Related Posts: