तीसरे ई-मेल में आतंकियों की चेतावनी, गुजरात सरकार सतर्क

नई दिल्ली 9 सितंबर. केन्द्रीय गृह मंत्री पी.चिदंबरम का कहना है कि दिल्ली हाईकोर्ट के बाहर हुए ब्लास्ट के मामले में अहम कामयाबी मिली है. गृह मंत्री ने तीसरा ई मेल आने संबंधी बात कही है. उन्होंने कहा कि तीसरा ई मेल मिला है. इसमें अहमदाबाद में ब्लास्ट की धमकी दी गई है. गुजरात सरकार को सतर्क कर दिया है. चिदंबरम ने कहा कि कोई भी यह दावा नहीं कर सकता कि आगे से आतंकी हमले नहीं होंगे.

गृह मंत्री ने कहा कि भारत आंतकियों के निशाने पर है. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान भारत के पड़ोसी देश हैं. से में आतंक का खतरा हमेशा बना रहता है. उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आतंकी घटनाएं रोकने में राज्यों की भी अहम भूमिका है. सभी राज्यों से कहा गया है कि वे छोटी से छोटी सूचना सुरक्षा एजेंसियों और गृह मंत्रालय के साथ साझा करें. चिदंबरम ने कहा कि सुरक्षा को लेकर सरकार की गंभीरता पर सवाल उठाना गलत है. उन्होंने भाजपा के आरोपों पर कहा कि एनडीए के शासन के समय संसद पर हमला हुआ था लेकिन उस समय किसी ने एनडीए के किसी नेता पर सवाल नहीं उठाए गए थे. भाजपा नेताओं की अपनी जिम्मेदारी समझनी चाहिए.

इस बीच इंटेलिजेंस ब्यूरो ने पश्चिम बंगाल सरकार को बांग्लादेश के रास्त सूबे में 5 आतंकियों के घुसने की जानकारी दी है. इन आतंकियों के नाम मोहम्मद अबीर कमल, मोहम्मद बबलू, मोहम्मद एकदिल हुसैन, मोहम्मद काबिल सरदार और मोहम्मद अकबर अली बताए गए हैं. आईबी के मुताबिक, नॉर्थ 24 परगना के बागदा में इन आतंकियों के छिपे होने की खबर है.

इस बीच जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ से हूजी का मेल भेजने वाला हिरासत में ले लिया गया है. उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि उस शख्स से पूछताछ की जा रही है. गौरतलब है कि यह ब्लास्ट के बाद भेजा गया पहला मेल था. इस मेल में हूजी (हरकत-उल-जिहादी-अल-इस्लामी) ने ब्लास्ट की जिम्मेदारी ली थी. किश्तवाड़ से 5 अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया गया है.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने हाल में ही हुए विस्फोट के मद्देनजर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट परिसर में सुरक्षा कड़ी करने के लिए गृह मंत्री और विधि मंत्री से तत्काल कदम उठाने को कहा.
संसद हमला मामले में अभियुक्त अफजल गुरू ने दिल्ली हाईकोर्ट में हुए बम विस्फोट को बर्बर अपराध एवं कायराना हरकत करार देते हुए इस घटना से स्वयं को अलग कर लिया है.
अफजल गुरू ने शुक्रवार को कहा कि कोई भी धर्म निर्दोष लोगों को मारने की इजाजत नहीं देता और वह इस बात से बेहद हैरान हैं कि उसका नाम इस मामले में घसीटा जा रहा है.

Related Posts: