वॉशिंगटन, 25 दिसंबर. पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन को पाकिस्तानी सेना की छावनी के निकट ऐबटाबाद में छुपाया था. पाकिस्तान के ही एक पूर्व सेना प्रमुख जियाउद्दीन बट ने यह खुलासा करते हुए बताया है कि इस बात की जानकारी पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को भी थी.

जेम्सटाउन फाउंडेशन की वेबसाइट पर जारी एक आलेख में बट के हवाले से कहा गया है कि इस बात के ठोस सबूत सामने आ रहे हैं कि पाकिस्तानी सेना के तत्वों ने लादेन को छुपाया था और इस बात की जानकारी मुशर्रफ और वर्तमान सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी को थी. पूर्व सेना प्रमुख जियाउद्दीन बट ने अक्टूबर 2011 में पाकिस्तान-अमेरिका संबंधों पर आयोजित एक समारोह में कहा था कि उनकी जानकारी के मुताबिक इंटेलिजेंस ब्यूरो के तत्कालीन महानिदेशक ब्रिगेडियर एजाज शाह ने  लादेन को इंटेलिजेंस ब्यूरो के ऐबटाबाद स्थित सुरक्षित पनाहगाह में शरण दी थी. लादेन को अमेरिकी कमांडो ने 2 मई की रात में किए गए एक विशेष अभियान में ऐबटाबाद स्थित घर में ढेर कर दिया था. सेवानिवृत्त जनरल ने कहा कि बाद में इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस ने अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए को लादेन का ठिकाना तलाशने में मदद करते हुए उसी ऐबटाबाद का पता बताया था.

रिपोर्ट में कहा गया है कि यह खुलासा कुछ समय तक समाचार संगठनों की सुर्खियां इसलिए नहीं बन पाया क्योंकि कुछ खुफिया अधिकारियों ने पत्रकारों से कहा था कि वे बट की टिप्पणी को प्रकाशित न करें. बट ने  कहा था कि पूरा भरोसा है एजाज शाह ने लादेन को ऐबटाबाद परिसर में छुपने के लिए जगह दी थी और इसकी जानकारी मुशर्रफ को थी. बट ने साथ ही कहा कि एजाज शाह मुशर्रफ सरकार के शासनकाल के दौरान काफी शक्तिशाली था. बट से यह पूछे जो पर कि पाकिस्तान के वर्तमान सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी को इस बात की जानकारी थी या नहीं इस पर पहले तो उन्होंने कहा, हां, लेकिन बाद में उन्होंने कहा मैं नहीं जानता, हो सकता है कि उन्हें जानकारी न हो. गौरतलब है कि बट नवाज शरीफ के कार्यकाल में सेना प्रमुख थे. शरीफ ने मुशर्रफ की जगह उन्हें सेना प्रमुख बनाया था. हालांकि बाद में तख्तापलट कर मुशर्रफ ने सत्ता की कमान अपने हाथ में ले ली.

Related Posts: