नयी दिल्ली, 15 मई, नससे. लंबे इंतजार के बाद राज्यसभा में मंगलवार को ग्लैमर की चकाचौंध भरी रेखा खिंच गई. हल्का पीलापन लिए क्रीम कलर की साड़ी पहनकर आईं बॉलीवुड अभिनेत्री रेखा ने जब 10 बजकर 57 मिनट पर सदन में कदम रखा, तो अनेक जोड़ी निगाहें उनकी ओर घूम गईं.

कइयों ने कनखियों से उन्हें देखा, तो सांसद जया बच्चन ने पीठ फेरकर किसी तरह का अहसास मन में न होने का बहाना कर निगाहें इधर-उधर घुमाए रखीं. कई सदस्यों ने रेखा को व्यक्तिगत रूप से मिल कर बधाई दी. उन्हें 26 अप्रैल को राज्यसभा में मनोनीत किया गया था. सभापति हामिद अंसारी ने शपथ ग्रहण के लिए 57 वर्षीया रेखा का नाम पुकारा, तो वह धीमे-धीमे कदमों से देश की संसद के ऊपरी सदन के गुंबद के ठीक बीचोंबीच चल पडीं. रेखा ने मिठास भरी आवाज में अंग्रेजी में पर्ची पर लिखी शपथ को पढ़ा, जिसे वह काफी देर से मु_ी में दबाए थीं. शपथ पूरी करने के बाद वह सभापति के आसन तक गईं और आदाब की मुद्रा मे उनका अभिवादन किया. फिर उनके आसन के पीछे से घूमकर वापस सदन के बीचोंबीच आईं. दूसरा अभिवादन उन्होंने विपक्ष की बैंच पर बैठीं नजमा हेपतुल्ला को किया. उन सीटों की ओर उनकी नजरें नहीं गईं, जहां फिल्म ‘सिलसिला’ में उनकी सह-अभिनेत्री जया बच्चन बैठी हुई थीं. सदन में कांग्रेस की बैंचों की ओर आते हुए उन्होंने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को प्रणाम किया.

इसके बाद उन्हें आवंटित की गईं सीट (नंबर 99) पर बैठ गईं. वहां उनके पड़ोस में अर्थशास्त्री अशोक गांगुली बैठे थे और इसी बैंच पर बॉलीवुड के गीतकार जावेद अख्तर भी थे. रेखा के संसद भवन में पहुंचने को लेकर जबर्दस्त उत्साह था. जब वह पहुंचीं, तो गेट नंबर बारह पर उनकी कार के सामने टीवी कैमरों की बाढ़ आ गई. असंख्य कैमरे उनकी कार के दरवाजे के सामने दीवार बनकर खडे थे. काफी प्रयासों के बाद जब बात नहीं बनी, तो रेखा को दूसरे सुरक्षित गेट से सदन के भीतर लाया गया. यह गेट प्रधानमंत्री इस्तेमाल करते हैं. संसदीय मामलों के राज्यमंत्री राजीव शुक्ला के साथ जाकर रेखा ने राज्यसभा के सभापति से मुलाकात की.

Related Posts: