सेप्ट कर रही है योजना का खाका तैयार

इंदौर. 14 नवंबर. अहमदाबाद का संस्थान सेप्ट इंदौर के विकास का ढांचा तैयार कर रहा है। इसके लिए केंद्र से करोड़ों रुपए का अनुदान इंदौर को मिलेगा।सिटी डेव्हलपमेंट प्लान (सीडीपी) को देखते हुए भविष्य में कई नई कंपनियों का रुख भी इन्दौर की ओर होगा. पांच साल पहले केंद्र सरकार ने जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शहरी नवीनीकरण मिशन शुरू किया था। उस समय विकास के लिए सरकार ने 63 शहरों का चयन कर इन शहरों से सिटी डेवलपमेंट प्लान (सीडीपी) मंगाया था। इसी के तहत केंद्र सरकार 2012 तक जेएनएनयूआरएम पार्ट-2 शुरू करने जा रही है। इसमें किस श्रेणी के किन शहरों को लिया जाएगा इसका खुलासा नहीं हुआ है लेकिन पार्ट-1 के 63 में से 7 शहरों का चयन हो चुका है और नए सिरे से सीडीपी बनाने का काम अहमदाबाद की संस्था सेप्ट को सौंपा गया है।

शहर के भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए विकास की कार्ययोजना बनाई जा रही है। इसके लिए सरकार ने एक नया साफ्टवेयर टूलकीड भी जारी किया है जिसमें सीडीपी का विषय डालने पर उस विषय से संबंधित 46 प्रश्न अधिकारियों के समझ आएंगे। इन प्रश्नों का उत्तर देने पर स्वत: हीउस प्रोजेक्ट की 10 अंक में से मार्किंग हो जाएगी। विकास योजना में अधिकतम अंक वाला प्रोजेक्ट प्रथम वरियता पर होगा। उक्त कार्ययोजना का पूरा खर्च केंद्र सरकार का होगा.इन्दौर को चयनीत किये जाने के साथ ही इन्दौर को जेएनएनयूआरएस के दूसरे चरण में करोड़ों रुपए का अनुदान मिलने की दिशा में एक मजबूत कदम उठ गया है. इन्दौर में इंफोसिस-टीसीएस जैसी आई टी कंपनियों के साथ सिटी डेव्हलपमेंट प्लान (सीडीपी) को देखते हुए भविष्य में कई नई कंपनियों का रुख भी इन्दौर की ओर होगा. इससे हजारों लोगों को रोजगार भी मिलेगा.

इन्दौर के बाद उज्जैन की बारी…
इस संबंध में इन्दौर और उज्जैन के लिए हमने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात कर केंद्र सरकार की ओर से यह सौगात देने का आग्रह किया था. इसे स्वीकार किया गया. शीघ्र ही उज्जैन को भी मिलेगी. -प्रेमचंद गुड्डू , सांसद

Related Posts: