मुम्बई, देश के शेयर बाजारों में गुरुवार को गिरावट का रुख रहा, प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स 39.69 अंकों की गिरावट के साथ 17,560.87  और निफ्टी 15.05 अंकों की गिरावट के साथ 5,322.95 पर बंद हुआ.

बम्बई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 11.52 अंकों की तेजी के साथ 17,612.08 पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का 50 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक निफ्टी 10.30 अंकों की तेजी के साथ 5,348.30 पर खुला. बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही, मिडकैप 16.08 अंकों की गिरावट के साथ 6,098.12 पर और स्मॉलकैप 27.24 अंकों की गिरावट के साथ 6,568.63 पर बंद हुआ.

बाम्बे शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक कल के 17601.78 अंक की तुलना में 39.69 अंक अर्थात 0.23 प्रतिशत के नुकसान से 17560.87 अंक रह गया. कारोबार के दौरान सूचकांक में अच्छी बढत भी देखी गई.  मिडकैप में 6098.12 अंक पर 16.08 अंक अर्थात 0.26 प्रतिशत की गिरावट रही. स्मालकैप 0.41 प्रतिशत अर्थात 27.24 अंक गिरकर 6568.63 अंक रह गया.

नेशनल स्टाक एक्सचेंज, एनएसई, का निफ्टी कल के 5338 अंक के मुकाबले 15.05 प्रतिशत अर्थात 0.26 प्रतिशत की गिरावट से 5322.95 अंक पर बंद हुआ. देश के सबसे बडे वाणिज्यिक बैंक के कल घोषित किए जाने वाले नतीजों को लेकर भी बाजार में चिंता देखी गई. विश्लेषकों का मानना है कि बैंक के मुनाफे में गिरावट आ सकती है. भारतीय एयर टेल का शेयर 6.42 प्रतिात के नुकसान से 256.75 रुपए का रह गया. यह स्तर 26 अक्टूबर 2006 के बाद का न्यूनतम है. नतीजों के बाद से इसमें 12.61 प्रतिशत की गिरावट आ चुकी है. एसबीआई का शेयर भी साढे चार प्रतिशत लुढक गया, देश की अग्रणी दवा कंपनी रैनबैक्सी लैबोरेट्रीज के शेयर में 2.7 प्रतिशत का नुकसान हुआ. कंपनी का सकल शुद्ध घाटा 586 करोड रुपए हो गया है. क्रेन इंडिया का शेयर मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल धीर के इस्तीफे की खबरों के बीच दो प्रतिशत लुढक गया.

टाटा मोटर्स क शेयर भी उम्मीद से कम परिणामों के चलते 0.9 प्रतिशत टूट गया. महिन्द्रा ऐंड महिन्द्रा में 2.82 प्रतिशत का इजाफा दर्ज किया गया.  डालर-रुपया डेरिवेटिव कारोबार शुरू करेगा. एमसीएक्स स्टाक एक्सचेंज (एमसीएक्स-एसएक्स) ने गुरुवार को  कहा कि वह शुक्रवार से डालर-रुपया के डेरिवेटि (वायदा और विकल्प) विकल्प के सौदों का कारोबार संचालित करेगा.

एमसीएक्स-एसएक्स को इसके लिए बाजार नियामक सेबी और रिजर्व बैंक से अनुमति मिल चुकी है. एक्सचेंज ने एक बयान में कहा कि वह डालर-रुपया में मुद्रा विकल्प की पेशकश के साथ विदेशी मुद्रा विनियम दर डेरिवेटिव कारोबार में अपनी सेवाओं का विस्तार करने जा रहा है.

Related Posts: