कराची, 28 अगस्त. अपने धर्म और देश को छोड़कर पाकिस्तानी नागरिक से शादी करना एक भारतीय महिला को बहुत भारी पड़ा. करीब 13 साल तक शबनम बंधक बनकर पति से प्रताडि़त होती रही. वहां के मानवाधिकार आयोग के प्रयासों के बाद अब उसके भारत लौटने की उम्मीद जगी है.

गुल मोहम्मद खान नामक व्यक्ति से शिर्ले अन होज्स की मुलाकात गुजरात के अहमदाबाद में हुई थी. 1997 में दोनों ने शादी कर ली. इसके लिए उसने धर्म बदला और नाम बदलकर शबनम कर लिया. 13 साल पहले अपनी नवजात बच्ची के साथ वह छह माह के वीजा पर कराची पहुंची. इसी के साथ उसके जीवन का बुरा चक्र शुरू हो गया. यहां उसकी मुलाकात गुल खान की पत्नी और छह बच्चों से हुई. उसका भारतीय पासपोर्ट जब्त कर उसे एक कमरे में बंद कर दिया गया. तब से वह मकान के ऊपरी मंजिल पर स्थित कमरे में ही बंद है. उसे किसी से मिलने नहीं दिया जाता. जब यह मामला प्रकाश में आया तो पाकिस्तानी मानवाधिकार आयोग और सामाजिक कार्यकर्ता अस्मा जहांगीर तथा अंसार बर्नी ने भारत लौटने में उसकी मदद करनी शुरू की.

आयोग के सदस्य अब्दुल हई और बर्नी ने बताया कि अहमदाबाद स्थित उसके परिवार ने शबनम की रिहाई के लिए उनसे मदद मांगी है. इंटरनेट और मोबाइल फोन के जरिये ही वह बाहरी दुनिया से जुड़ी है. उसने एक अखबार को बताया कि उसकी जिंदगी नरक हो गई है. कई सालों से वह कमरे से बाहर नहीं निकली है. अब वह अपने घर लौटना चाहती है. उसकी बच्ची को भी स्कूलों नहीं भेजा जाता. मां-बेटी की डंडे से पिटाई की जाती है. अपने परिजनों से भी वह बातचीत पति के सामने ही कर सकती थी. इस कारण उन्हें कुछ नहीं बोल पाती थी. कुछ महीने पहले किसी तरह अकेले में वह अपने परिवार से बात कर पाई और सारी व्यथा उन्हें बता दी. इसके बाद उसके परिवार ने उसकी भारत वापसी के लिए प्रयास शुरू कर दिए हैं. इस संबंध में उन्होंने केंद्रीय गृह सचिव, पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त और मानवाधिकार कार्यकर्ता अस्मा जहांगीर को पत्र लिखा. इस बीच, स्थानीय पुलिस ने गुल और उसकी पत्नी से पूछताछ की है. साथ ही सिंध हाई कोर्ट में प्रताडऩा के मामले के तहत याचिका भी लगाई है.

Related Posts:

ईरान के आर्थिक मामलों के मंत्री ने मोदी से की मुलाकात
कोरियाई प्रायद्वीप पर किसी युद्ध की अनुमति नहीं देगे : जिनपिंग
चीन का भारत को सीमा विवाद के शीघ्र समाधान का आश्वासन : प्रणव
नाइजीरियाई जेल में बंद 11 भारतीय रिहा
इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ाया गया प्राचीन शहर अल-हतरा
पाकिस्तान में ड्रोन हमला, तीन आतंकवादी मरे