नई दिल्ली. आयकर विभाग चालू वित्त वर्ष में करदाताओं को रिफंड की रफ्तार में तेजी लाएगा। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) की नई चेयरमैन पूनम किशोर सक्सेना ने अधिकारियों को यह निर्देश दिया है।

सीबीडीटी चेयरमैन ने आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ पहली बैठक में इसमें तेजी लाने को कहा है। उनके मुताबिक करदाताओं को समय पर रिफंड और सहजता से सेवाएं उपलब्ध कराई जानी चाहिए। आम लोगों की कई समस्याएं कर विभाग से ही जुड़ी होती हैं। 21 अगस्त को सीबीडीटी प्रमुख का पदभार ग्रहण करने वाली सक्सेना ने कहा कि विभाग प्रभावी कामकाज के जरिए यह सुनिश्चित करे कि 5.70 लाख करोड़ रुपये के प्रत्यक्ष कर संग्रह का लक्ष्य पूरा हो।

सक्सेना ने पिछले दिनों देश के सभी आयकर क्षेत्रों में कर संग्रह की समीक्षा की है। उन्होंने कहा कि सरलता से आयकर रिटर्न जमा करना और समय पर रिफंड करना इस विभाग की सबसे बड़ी जरूरत है। भारतीय राजस्व सेवा की 1975 बैच की अधिकारी सक्सेना ने विभाग के अधिकारियों से सतत संपर्क के लिए एक अलग ई-मेल एकाउंट तैयार किया है।

एलआइसी ने खरीदे अरबों के शेयर
देश की सबसे बड़ी बीमाकर्ता कंपनी एलआइसी ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान भारतीय कंपनियों में करीब 11 हजार करोड़ रुपये के शेयर खरीदे हैं। यह निवेश मुख्य रूप से ऊर्जा और सॉफ्टवेयर कंपनियों के शेयरों में किया गया है।

Related Posts: