सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक रहे बंद

भोपाल, 22 अगस्त,नभासं. सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण की प्रस्तावित सरकारी नीति के विरोध में राष्ट्रीयकृत बैंकों की दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हडताल के तहत आज पहले दिन राजधानी में सभी राष्ट्रीयकृत बैकों की शाखाओं में कामकाज पूरी तरह से ठप रहा.

आल इंडिया फोरम आफ बैंक यूनियन की मध्यप्रदेश इकाई के समन्वयक और मध्यप्रदेश स्टेट बैंक ऑफ इंडिया आफिसर्स एसोसिएशन के महासचिव संजीव मिश्रा ने बताया कि इस दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हडताल के पहले दिन राष्ट्रीयकृत बैंकों की मध्यप्रदेश के 50 हजार से अधिक अधिकारियों,कर्मचारियों के हडताल पर रहने के कारण लगभग साढे पांच हजार शाखाओं के ताले नही खुलने से बैंकिंग कारोबार पूरी तरह ठप रहा. उन्होंने बताया कि भोपाल के एम.पी. नगर में बैंक कर्मचारियों ने बडी संख्या में एकत्रित होकर केन्द्र सरकार की बैेंक कर्मचारियों विरोधी नीतियों के खिलाफ रैली निकाली. रैली को विभिन्न बैंक क ी कर्मचारी यूनियनों और एआईएफबीयू के नेताओं ने संबोधित किया.

उन्होंने बताया कि हडताल के पहले दिन प्रदेश में चार से पांच करोड रूपये के चेक क्लियर नहीं हो पायेंगे और बैंक में होने वाला नगद लेनदेन भी प्रभावित होगा. एआईएफबीयू एवं पंजाब नेशनल बैंक कर्मचारी संघ के वी.के.शर्मा ने बताया कि यह हडताल पहले दिन प्रदेशभर में पूरी तरह से सफल रही. उन्होंने बताया कि नगद लेनदेन करने के लिए एटीएम में पर्याप्त रूपये कल जमा कर दिए गए थे.लेकिन एटीएम में नोटों की क्षमता आज शाम तक जवाब दे सकती है जिससे हडताल के दूसरे दिन कल बैंक के ग्राहकों एटीएम से नगद लेनदेन करने में परेशानी हो सकती है. शर्मा ने बताया कि यह दो दिवसीय हडताल बैंक कर्मचारियों की पेंशन में सुधार काम के घंटे निश्चित करने बैंकों में नियमित रोजगार उपलब्ध कराने हेतु पद स्वीकृ त करने और बैंकों का कार्य ठेके पर न देने की मांग को लेकर की जा रही है. उन्होंने बताया कि इस हडताल में राष्ट्रीयकृत बैंकों की नौ यूनियन शामिल हैं.

इस हडताल में निजी क्षेत्र की बैकों के कर्मचारी हडताल पर नही हैं. जबलपुर से प्राप्त समाचार के अनुसार राष्ट्रीयकृत बैकों की हड़ताल के चलते स्थानीय मालवीय चौक पर बैंक कर्मचारियों ने एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन किया. शहर में एटीएम पर नगद रूपये निकालने के लिए भीड लगी रही. इंदौर ग्वालियर उज्जैन सागर और अन्य शहरों से भी इस हडताल के चलते में राष्ट्रीयकृत बैंकों की शाखाओं में कामकाज पूरी तरह ठप होने के समाचार मिले है.

Related Posts: