कुकरू में करीब 30 घंटे बिताने के बाद रवाना हुए मुख्यमंत्री

बैतूल, 7 दिसम्बर नससे. जिले के कुकरू में करीब 30 घंटे बिताने के बाद आज दोपहर मुख्यमंत्री अपनी पत्नी समेत भोपाल रवाना हो गए. उन्होंने ने इस दौरान लिखाई, पढ़ाई के साथ प्रदेश के चहुंमुखी विकास के लिए चिंतन किया है.

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को जहां सूर्यास्त का नजारा देखा था वहीं आज सुबह सूर्योदय की अद्भुत छटा को भी निहारा. मुख्यमंत्री ने आज कुकरू गांव में चौपाल लगाई और ग्रामीणों से रू-ब-रू हुए. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने बालक छात्रावास पहुंचकर वहां रह रहे बच्चों से मुलाकात करने के साथ-साथ उनके साथ भोजन व्यवस्था की जानकारी ली. शिवराज सिंह ने कुकरू गांव में विशेष चर्चा के दौरान बताया कि वे कुकरू में कुछ लिखने, पढऩे और जनता की भलाई के लिए और क्या कर सकते हैं इस पर चिंतन करने आए थे और आज रवाना हो रहे हैं. मंत्री मंडल विस्तार और प्रशासनिक सर्जरी के संबंध में पूछे गए सवाल को उन्होंने टाल दिया. मुख्यमंत्री दोपहर 2.30 बजे रेस्ट हाउस से निकलकर ग्राम कुकरू पहुंचे थे. यहां उन्होंने ग्रामीणों की पेयजल समस्या का निदान करने के लिए कलेक्टर को निर्देश दिए. उन्होंने इस ग्राम को मुख्यमंत्री पेयजल योजना में शामिल करने के निर्देश देते हुये कहा कि यहॉ कुंआ अथवा अन्य साधन तैयार कर पाईप लाईन डालकर पेयजल की व्यवस्था की जावे. गांव में दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के कलेक्टर को निर्देश दिये. मुख्यमंत्री द्वारा ग्वालीढाना में प्राथमिक शाला प्रांरभ करने, ग्राम लोकलदरी से खामला तक पक्का रोड बनवाने का भी ग्रामीणों को आश्वासन दिया. मुख्यमंत्री ने कुकरू में फैली हरियाली और प्राकृतिक सुंदरता की भरपूर प्रशंसा करते हुए अन्य व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने के निर्देश दिए.

Related Posts: