पेट्रोलियम मूल्य वृद्धि के खिलाफ

बैरागढ़ 24 मई (संवाददाता) संत हिरदाराम नगर बैरागढ भाजपा मण्डल द्वारा बुधवार की रात्रि को की गई पेट्रोल मूल्य वृद्धि के खिलाफ भाजपा सडक पर उतर आई है और उन्होने केन्द्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि वह मूल्य वृद्धि को तत्काल वापिस ले या  2013 व 2014 के लोकसभा के चुनाव के लिए तैयार हो जाये.

जुलूस को सम्बोधित करते हुए मंडल अध्यक्ष बसंत भारान ने कहा कि केन्द्र सरकार एक तरफ झूठा विकास रिपोर्ट प्रस्तुत करती है दूसरी तरफ धोखे से पेट्रोल मूल्य वृद्धि कर आम जनता के साथ जो खिलवाड कर रही है उसका आने वाले चुनावो में खामियाजा भुगतना पडेगा. प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री देश से झूठ बोल रहे है. पेट्रोलियम की मूल्य वृद्धि कर रही है इसके पूर्व बस स्टेण्ड चौराहा से कई भाजपा कार्यकर्ता अपने हाथो में मशाल जुलूस लेकर पैदल चंचल चौराहा तक पहुंचे.

जहां मशाल जुलूस को प्रदेश के पूर्व मंत्री व विधायक कमल पटेल ने भी संबोधित किया. वे वाहन मार्ग से भोपाल से इंदौर की ओर जा रहे थे इसी बीच मशाल जुलूस देखकर वे रुक गए और वे भाजपा कार्यकर्ताओ ने उनका जोरदार स्वागत किया. कहा कि केंद्र की सरकार ने देश की जनता के साथ इतना बडा धोखा किया जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती. एक रात में पेट्रोल की कीमत 8 रुपये बढाना आम जनता के मुंह से उसके खाने का निबाला छीनने जैसा है उन्होने प्रधानमंत्री एवं वित्त मंत्री से इस्तीफ की मांग की है.

मशाल जुलूस में मुख्य रुप से मौजूद माखन राजपूत, परसराम मीणा, विधायक प्रतिनिधि किशन अच्छानी, सुनील सिंह जाट, राजेन्द्र गर्ग, रमेश जनियानी, पृथ्वीराज त्रिवेदी, हरिश बिनवानी, युवा मोर्चा मध्यक्ष सुरेश, वासु गुलानी, इन्द्र भोजवानी, रमेश शाक्या, सेवकराम लालवानी, मुकेश साकला, विनोद राय, अशोक मीणा, गोविन्दराम भम्भानी, इत्यादि बडी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता एवं क्षेत्र के नागरिक उपस्थित थे. तेल कंपनियों पर नियंत्रण करे केन्द्र सरकार- उधर बुधवार को पेट्रोल की कीमत साढे सात रुपये किये जाने को लेकर बैरागढ के युवा नेता एवं जिला काग्रेस कमेटी के नगरीय निकाय प्रकोष्ठ के पूर्व जिला प्रवक्ता नितिन दुबे ने जारी विज्ञप्ति में कहा कि केन्द्र सरकार तेल कंपनियो पर नियंत्रिण करे कंपनियां ही पेट्रोल, डीजल, रसोई गैस की कीमते तय करती है न कि केंद्र सरकार पेट्रोल पर एकदम से 7 रुपये 50 पैसे प्रति लीटर की बढोतरी की जिम्मेदार तेल कंपनियो है. यदि केंद्र सरकार तेल कंपनियो पर नियंत्रण संबंधी नियम बना दे तो कभी तेल कंपनियो डीजल, रसोई गैस पर भविष्य में कीमते बढाने की मंशा पर अंकुश लग सकेगा.

Related Posts: