तिरुपति, 30 दिसंबर.  भारत के सबसे समृद्ध मंदिरों में शुमार यहां तिरुमला के भगवान वेंकटेश्वर के मंदिर को 2011 में 1,700 करोड़ रुपये का चढ़ावा आया. वर्ष के दौरान अतिविशिष्ट व्यक्तियों समेत कुल 2.2 करोड़ श्रद्धालु तिरुपतिनाथ के दर्शन के लिए आए.

करीब 2,000 साल पुराने मंदिर का प्रबंधन करने वाले तिरुमला तिरुपति देवस्थानम के अधिकारियों ने कहा कि मंदिर की हुंडी में 1,100 करोड़ रुपये का चढ़ावा चढा तथा राष्ट्रीयकृत बैंकों में जमा धन, सोना समेत अन्य निवेशों पर आय तथा दर्शन अदि के लिए टिकटों की बिक्री से 200 करोड़ रुपये से ज्यादा की आय हुई. इसके अलावा दर्शनार्थियों ने कई करोड़ रुपये के हीरे, सोने और चांदी के जेवरात का भी चढ़ावा आया. इस साल जो अतिविशिष्ट व्यक्ति ने दर्शन के लिए मंदिर गए उनमें भारत, श्रीलंका और नेपाल के राष्ट्रपति भी शामिल हैं. राष्ट्रपति प्रतिभा पाटील सात जुलाई को अपनी शादी की वषर्गांठ पर अपने पति देवीसिंह रामसिंह शेखावत और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ मंदिर दर्शन के लिए गईं. पूजा के बाद उन्होंने मंदिर न्याय द्वारा तिरुमला पहाडिय़ों पर 33 करोड़ रुपये की लागत से बनाए गए मुफ्त भोजन परिसर का उद्घाटन किया. श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे ने भारत और श्रीलंका के बीच होने वाले आईसीसी विश्व कप के फाइनल मैच से एक दिन पहले दो अप्रैल को भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन किए. इधर नेपाल के राष्ट्रपति राम बरन यादव 30 जनवरी को भगवान के दर्शन के लिए मंदिर आए थे.

Related Posts: