गंगा में समाई बस 25 की जलसमाधि

सभी मृतक मंदसौर के तीर्थयात्री

ऋषिकेश, 22 मई. उत्तराखंड के ऋषिकेश में एक बस के नदी में गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई. मरने वाले सभी यात्री मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के रहने वाले थे.

ये सभी चार धाम की यात्रा करके लौट रहे थे लेकिन ऋषिकेश से 35 किलोमीटर दूर बस का संतुलन बिगड़ा और फिर बस गंगा में जा गिरी. चीख-पुकार मचने के बाद आसपास के इलाके के लोग मौके पर पहुंचे और लोगों को पानी में फंसी बस से निकालना शुरू किया. ताजा जानकारी के मुताबिक 25 लोगों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं जबकि कई अब भी लापता हैं.
घायलों को ऋषिकेश के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं लापता लोगों की तलाश की जा रही है. मध्य प्रदेश के ये सभी लोग तेरह मई को ऋषिकेश से चार धाम यात्रा पर रवाना हुए थे जिन्हें मंगलवार की शाम ऋषिकेश पहुंचना था आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां बताया कि बस में सवार मध्य प्रदेश के यात्री बद्रीनाथ धाम से ऋषिकेश लौट रहे थे. तभी व्यासी के पास कोडियाला क्षेत्र में एक ट्रक को ओवरटेक करते समय बस सड़क किनारे खाईं में लुढकते हुए गंगा में जा गिरी.

सूत्रों के अनुसार बस के लुढ़कते समय ही कई यात्री खिड़कियों से बाहर छिटककर गिर गए. हालांकि ऐसे लोगों का अभी तक कोई पता नहीं चल सका है. सूत्रों ने बताया कि नदी में से 21 यात्रियों को निकालकर ऋषिकेश के अस्पताल में पहुंचाया गया है, जहां अधिकांश की हालत नाजुक है.सूत्रों के अनुसार, बस में कुल 42 यात्री सवार थे, जो मध्यप्रदेश से आए थे. चमोली जिले में बद्रीनाथ धाम का दर्शन करके वापस ऋषिकेश लौट रहे थे.

सूत्रों ने बताया कि बस चालक ने आगे जा रहे एक ट्रक को ओवरटेक करने की कोशिश की, लेकिन वह सड़क की चौडाई का अंदाजा नहीं लगा सका और बस खाईं से लुढकती हुई गंगा नदी में जा गिरी. बस के लुढ़कते ही लोगों में चीख पुकार मच गई. बस को गिरते हुए देखकर स्थानीय लोग तुरंत नीचे गंगा की तलहटी के पास पहुंच गए और लोगों को बाहर निकालने का काम शुरू किया. सूत्रों ने बताया कि सूचना मिलने के तुरंत बाद पुलिस और राहत दल ने मौके पर पहुंचकर राहत और बचाव कार्य शुरू किया. गंगा में से कुल 21 यात्रियों को निकालकर ऋषिकेश सरकारी अस्पताल पहुंचाया गया. सूत्रों के अनुसार, अभी भी कई लोग नदी में बस के भीतर ही हैं. आशंका है कि उन लोगों की मौत हो चुकी है. बस के भीतर फंसे हुए लोगों को बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है.

दूसरी ओर, पुलिस अधीक्षक जनमेजय खंडूरी ने बताया कि जो लोग नदी में डूबी बस में अभी भी फंसे हुए हैं, उनके बचे रहने की संभावना कम ही है. उन लोगों को बाहर निकालने के लिए लोगों को तैनात किया गया है. उन्होंने बताया कि बस में कुल 45 लोग सवार थे, जिसमें 41 तीर्थयात्री थे. वहीं चालक, परिचालक तथा अन्य चार लोग शामिल थे. उन्होंने बताया कि सभी यात्री मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले के रहने वाले थे तथा बद्रीनाथ धाम का दर्शन करने के बाद वापस ऋषिकेश लौट रहे थे. पुलिस अधीक्षक खंडूरी ने कहा कि बचाव और राहत कार्य लगातार जारी है. पूरे क्षेत्र में बचाव दल के साथ-साथ गोताखोरों की भी सेवा ली जा रही है. उत्तराखंड के राज्यपाल अजीज कुरैशी ने बस हादसे में मारे गए लोगों के प्रति गहरा दुख व्यक्त किया है. उन्होंने दुर्घटना में मारे गए तीर्थयात्रियों की आत्मा की शांति के साथ उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने तथा घायलों के शीघ्र ही स्वास्थ्य लाभ की कामना की है.

मालगाड़ी से भिड़ी हंपी एक्सप्रेस

चार बच्चों सहित 25 की मौत

पेनुकोंडा, 22 मई. बेंगलूर जा रही हम्पी एक्सप्रेस के आज सुबह आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में स्टेशन पर खड़ी मालगाड़ी से टकराने से चार बच्चों समेत कम-से-कम 25 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 40 अन्य जख्मी हो गये. रेल चालक के सिग्नल की अनदेखी करने के कारण यह हादसा हुआ. इनमें 16 लोगों की जलकर मौत हो गई .

टक्कर का प्रभाव इतना ज्यादा था कि एक्सप्रेस ट्रेन की चार बोगियां पटरी से उतर गईं और उनमें से एक में आग लग गई . घायलों को पेनुकोंडा, हिन्दूपुर और अनंतपुर के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है .  टक्कर के कारण एक्सप्रेस ट्रेन के पहले तीन कोच पटरी से उतर गए .
टक्कर के कारण एक एसएलआर तथा दो सामान्य डिब्बे पटरी से उतर गये. एक डिब्बे में आग भी लग गयी. प्रवक्ता ने कहा कि आग पर काबू पा लिया गया है और बचाव तथा राहत कार्य जारी है. रेल मंत्री मुकुल राय ने घटना की जांच के आदेश दिये हैं. राय ने दुर्घटना में मरने वालों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये  गंभीर रूप से घायलों को एक-एक लाख रुपये तथा मामूली रूप से जख्मी लोगों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की है. रेल प्रवक्ता ने कहा, दुर्घटना के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है लेकिन पहली नजर में ऐसा लगता है कि हम्पी एक्सप्रेस के ड्राइवर ने सिग्नल की अनदेखी की.

इलाहबाद गये रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनय मित्तल बीच में ही अपनी यात्रा छोड़कर घटना स्थल रवाना हो गये हैं.  रेलवे ने बेंगलूर सिटी, बेल्लारी तथा हुबली में हेल्पलाइन नंबर स्थापित किया है. बेंगलूर सिटी के लिये हेल्पलाइन नंबर 080-22321166, 22156553, 22156554, बेल्लारी-08392277704, हास्पेट के लिये 08394-221788, हुबली-0836-2345338,2346141,2289826 हैं.

Related Posts: