सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में अनेक निर्णय

भोपाल, 9 सितंबर नभासं .सड़क सुरक्षा को और अधिक दुरूस्त किए जाने के तहत आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सड़क सुरक्षा समिति की बैठक आयोजित की गई। जिसमें यातायात को सुरक्षित बनाने के लिए समिति ने अनेक निर्णय लिए।

बिगड़ैल यातायात बर्दाश्त नहीं
बैठक को संबोधित करते हुए कलेक्टर निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि यातायात व्यवस्था को बिगड़ैल बनाने के हर दुस्साहस के खिलाफ सख्ती से निपटा जायेगा। उन्होंने शहर के नागरिकों से अपील की है कि वे यातायात नियमों का संजीदगी से पालन करें।
युवा पीढ़ी को खास हिदायत दी है कि वे यातायात नियमों को ठीक से जाने समझें और पूरी निष्ठा एवं गंभीरता से उनका पालन करें। उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी जिस जल्दबाजी से वाहनों का उपयोग करती है वह कतई उचित नहीं है उसे निर्धारित गति का ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि तेज गति जहां वाहन चालक को तो खतरों में डालती ही है वहीं दीगर राहगीरों की जान सांसत में पड़ जाती है।

हेलमेट और सीट बेल्ट का जरूरी
कलेक्टर निकुंज कुमार श्रीवास्तव ने बैठक में कहा कि हेलमेट और सीट बेल्ट का उपयोग पहले ही जरूरी कर दिया गया है। अब इस स्थिति पर खास नजर रखी जायेगी और उल्लंघन के हालातों पर सख्त रवैया अपनाया जायेगा।
उन्होंने कहा कि यातायात नियमों के पालन का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने के लिए पुलिस के यातायात दस्ते तैनात किए जायेंगे जो यातायात पर नजदीकी नजर रखेंगे। तथा हेलमेट और सीट बेल्ट का उपयोग न होने की दशा में कड़े कदम उठाएंगे। इसी तरह वाहनों की गति और यातायात नियम-कायदों के पालन को भी देखा जायेगा।

परमिट निरस्त किए जायेंगे
कलेक्टर ने बैठक में यह साफ कर दिया कि बिना मीटर के आटो सड़क पर किसी भी सूरत में नजर नहीं आना चाहिए। इस सिलसिले में उन्होंने नापतौल और आर.टी.ओ. को ताकीद की कि वे शेष बचे मीटर को तत्परता से ठीक कराएं और उन पर सील लगाएं। कलेक्टर ने समय सीमा निर्धारित करते हुए कहा कि 15 अक्टूबर तक प्रत्येक आटो में इलेक्ट्रानिक मीटर फिट हो जाना चाहिए।

शिकायत दर्ज की जायेगी
कलेक्टर ने उन आटो चालकों को आगाह कर दिया है जो सवारियों से दुर्व्यवहार करने और मनमाना किराया वसूल करते हैं। कलेक्टर का साफ कहना है कि मनमानी करने वाले आटो चालकों की शिकायत यातायात के टोल फ्री नम्बर 2443850 पर दर्ज कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। सवारियों को चाहिए कि वे मीटर डाउन कराकर ही आटो में सफर करें तथा मीटर के अनुसार ही किराया भुगतान करें। आटो चालकों को सख्त हिदायत दी गई है कि वे निर्धारित ड्रेस पहनें, नेम प्लेट लगाएं अन्यथा उनके खिलाफ सख्ती से पेश आया जायेगा।

क्रेन द्वारा उठवा ली जायेगी गाडिय़ां
बैठक में कलेक्टर श्रीवास्तव ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात से कहा कि वे पीरगेट, इब्राहिमपुरा, बुधवारा, जहांगीराबाद जैसी व्यस्त सड़क पर खड़े पुराने और कंडम वाहनों को क्रेन के जरिए उठवा लें ताकि यातायात में आ रही बाधा दूर हो सके। उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि जप्त शुदा वाहनों पर जुर्माना बढ़ाया जायेगा जिसके चलते बेतरतीब यातायात में सुधार आए और सुगमता की स्थिति निर्मित हो।

उन्होंने यातायात पुलिस को इस बात पर भी सख्त निगाह रखने को कहा कि बसें अपनी निर्धारित जगह से ही सवारियां बिठाए और तयशुदा रास्तों पर ही संचालित हों। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मार्ग और तयशुदा रास्तों पर ही संचालित हों। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मार्ग और तयशुदा स्टैण्ड का पालन नहीं करने वाली बसों के खिलाफ चालानी कार्रवाई तेज की जाये। उन्होंने कहा कि शहर में आटो और टैक्सी स्टैण्ड के लिए मुनासिब जगह तलाशी जाये। यह कार्य यातायात पुलिस और नगर निगम संयुक्त रूप से करेंगे।

यातायात की छाती पर खड़े पोल हटेंगे
बैठक में निर्णय लिया गया कि उन विद्युत पोल को हटाया जायेगा जो यातायात में बाधित बने हुए हैं। कलेक्टर ने इस सिलसिले में विद्युत विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए और कहा कि विद्युत खंभे सड़क से करीब दो मीटर दूर स्थापित किए जायें। उन्होंने क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी से कहा कि वे इस बात की जांच करें कि ट्रेवल एजेंसियों के पास खड़े करने के लिए पर्याप्त स्थान है या नहीं। उन्होंने कहा कि ट्रेवल एजेंसियों की ऐसी गाडिय़ा तत्काल जप्त कर ली जाये जो यातायात को बाधित कर रही है।

नो व्हीकल जोन पर चर्चा
बैठक में नो व्हीकल जोन पर भी चर्चा की गई और तय किया गया कि नो व्हीकल जोन में वाहनों का प्रवेश किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाये। इस दौरान एस.डी.एम.श्री चन्द्र मोहन मिश्रा ने सुझाव दिया कि नो व्हीकल जोन में खड़े वाहनों को छोटी क्रेन के जरिये तुरंत उठवा लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि एसी जगहों पर हाथ ठेले और दुकानदारों के वाहन यातायात में ज्यादा बाधक बनते हैं जिन्हें तत्काल हटा देना जरूरी है। उन्होंने टूट चुके बेरियर्स को दुरूस्त करने और नो व्हीकल जोन का कठोरता से पालन किए जाने का सुझाव दिया।

यातायात को सुगम बनाना मूल उद्धेश्य
कलेक्टर ने यातायात नियम कायदों और पालन में नाकाफी की स्थिति के खिलाफ होने वाली कार्रवाई का हवाला देते हुए कहा कि इन सबका एक ही उद्धेश्य है कि यातायात साफ सुथरा, सरल और सहज बने ताकि नागरिकों की यात्रा आसान बने। उन्होंने उस स्थिति को आदर्श बताया जिसमें प्रत्येक नागरिक कानून के भय से नहीं बल्कि स्वेच्छा से यातायात नियमों का पालन करता नजर आए।
बैठक में एडीएम उमा शंकर भार्गव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात मोनिका शुक्ला, आर.टी.ओ., लोक निर्माण विभाग और विद्युत विभाग के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Related Posts: