जावरा, 15 फरवरी, निप्र. एक अपहरण व फिरोती वसुल ने का सनसनी खेज मामला सामने आया है जिसमें पुलिस कर्मीभी आरोपियों में शामिल हैं. मामला जावरा पुलिस ने ट्रेस कर 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

गिरफ्तार सभी आरोपीगण इंदौर व धार जिले के है. इनमें दो आरोपी डी. आर. पी. लाईन इंदौर में पदस्थ आरक्षक अरविंद पापरलिया (क्रमांक 9०) व धार में डी. आर. पी. लाईन में सेवारत मनीष चौहान (क्रमांक 824) हैं. ये दोनों आरोपी बकायदा पुलिस वर्दी में थे. इनमें आरक्षक अरविंद ने उपनिरीक्षक पुलिस की वर्दी पहने था वर्दी के साथ सोल्डर पर दो स्टार भी लगे थे. घटना क अनुसार राजू पिता हीरालाल कंजर निवासी उकेडिय़ा (जावरा) को 14 फरवरी को सोना खरीदने का झांसा देकर करीम उल्ला इदरीस व उक्त 5 आरोपियों ने चौपाटी चौराहा स्थित होटल वादी पर बुलाया इनमें दो पुलिस आरक्षकों ने पुलिस की वर्दी पहन रखी थी. ये आरोपी वादी होटल से टवेरा में बिठाकर ले भागे. गेंग ने राजू कंजर के मोबाइल से हीरा कंजर को सूचना दी थी. कि यदि राजू जिंदा चाहिए तो हमें 5 लाख रुपए भेज दो अन्यथा हम राजू को मार डालेंगे.  मोबाइल से मिली धमकी पर हीरालाल कंजर ने पुलिस को सूचित किया. तब  डॉ. रमनसिंह सिकरवार के मार्गदर्शन में पुलिस टीम का गठन कर योजनाबद्ध तरीके से 15 फरवरी को सुबह 5 बजे अपराधियों की घेराबंदी कर लेबड़ जिला धार में धरदबोचा.

वर्दी पर लगे स्टार, बेल्ट  जब्त-जावरा पुुलिस ने आरोपियों से उपनिरीक्षक स्तर के नकली अधिकारी से पुलिस वर्दी, वर्दी पर लगे टू स्टार, बैंकों के ए.टी.एम कार्ड, पुलिस के परिचय पत्र, वाहनों के लायसेंस व अन्य सामग्री जप्त की है. गिरोह में इंदौर से प्रकाशित बड़े अखबार का हॉकर भी शामिल है. इंदौर के मालवा मिल निवासी अशोक पिता बाबूलाल सिहले के पर्स में अखबार का परिचय पत्र मिला. पर्स में अशोक का पासपोर्ट फोटो भी जप्त किया है, यह फोटो पुलिस आरक्षक की वर्दी में है. आश्चर्य की बात यह है कि इंदौर के पुलिस आरक्षक ने उपनिरीक्षक पहनी वर्दी में विशाल चतुर्वेदी नाम की नेम प्लेट भी लगा रखी थी.

ये है आरोपी- सात सदस्यीय आरोपी गिरोह में शामिल है, अरविंद पापरलिया  डी. आर. पी. लाईन इंदौर, मनीष चौहान डी. आर. पी. लाईन धार, करीम उल्ला पिता मोहम्मद पठान काजीपुरा खरगोन, इदरीस निवासी (धार), सुनील पिता माईराम राजपूत खजराना इंदौर, अशोक सिहले पिता बाबूलाल मालवा मिल इंदौर. इन आरोपियों से 1० मोबाइल व 5 मोबाइल सिम जप्त की गई. एएसपी श्री व्यास ने बताया कि फरियादी राजू कंजर के खिलाफ सोना (नकली) विक्रय कर अनेक वारदातों के प्रकरण विचाराधीन है तो अपराधी गिरोह के खिलाफ महू, डबल चौक (धार) सुन्दरेल व अजंड (खरगोन) सहित अनेक थानों में मुकदमें दर्ज है. इदरीस व राजू कंजर ने मिलकर पूर्व में अनेक वारदातों को अंजाम दिया है. पुलिस ने जिस टवेरा वाहन को जप्त किया उसके नम्बर एम. पी. ०9-बी.ए. 6264 भी नकली है. जप्त वाहन से असली गाड़ी नम्बर एम. पी. ०9 बी. सी. 5583 दो नम्बर प्लेटें मिली है. जप्त वाहन इंदौर के स्वर्णबाग खजराना स्थित ऊं. सांईराम टूर एण्ड ट्रेवल्स के नाम से है. जिसे चन्द्रशेखर नामक चालक चला रहा था एस. पी. श्री सिकरवार ने इस मामले का पर्दाफाश करने वाले नवागत एस. डी. ओ. पुलिस मनजीतसिंह चांवला, टी. आई. अनिल तिवारी, उपनिरीक्षक आर. एस. जाटव, सहायक उपनिरीक्षक गोपाल बौराना, प्रधान आरक्षक प्रदीप शर्मा, आरक्षक नरेन्द्रसिंह  जितेन्द्रसिंह राहुल उपाध्याय व कृष्णपालसिंह को नगद पुरस्कार देने की घोषणा की.

Related Posts: