स्थानीय लोगों व कार्यकर्ताओं से कड़ा विरोध झेलना पड़ रहा है

मुंबइ, 23 दिसंबर. परमाणु ऊर्जा निगम (एनपीसीआईएल) ने गुरुवार को कहा कि कलपक्कम में 500 मेगावाट क्षमता का प्रोटोटाइप फास्टब्रीडर रिएक्टर (पीएफबीआर) अगले दो साल में शुरू हो जाएगा.

एनपीसीआईएल के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक (सुरक्षा) उमेश चंद्रा ने बताया, ‘रिएक्टर के लिए निर्माण कार्य चल रहा है और हमें अपेक्षा है कि यह दो साल में बिजली उत्पादन शुरू कर देगा. यह बयान ऐसे समय में आया है, जबकि कुडनकुल्लम परमाणु बिजलीघर (तमिलनाडु) को लेकर स्थानीय लोगों व कार्यकर्ताओं से कड़ा विरोध झेलना पड़ रहा है. सार्वजनिक क्षेत्र के एनपीसीआईएल ने तीन चरणीय परमाणु कार्यक्रम तैयार किया है, जिसमें पहले चरण में दाबित भारी जल रिएक्टर, दूसरे चरण में एफबीआर तथा तीसरे चरण में थोरिया आधारित प्रणाली लगाना है.  चंद्रा ने कहा कि चेन्नई के निकट कलपक्कम में कुछ बड़े उपकरण पहले ही लगा दिए गए हैं.  उन्होंने कहा, हमारा मानना है कि परमाणु ऊर्जा परमाणु बोर्ड से मंजूरी मिलने के बाद इकाई दो साल में उत्पादन शुरू कर देगी.

Related Posts: