नई दिल्ली,15 दिसंबर. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख को लेकर सस्पेंस बना हुआ है. राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि मुख्यमंत्री मायावती अगले साल फरवरी में चुनाव का ऐलान कर सकती है. प्रदेश में हाई स्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा के प्रस्तावित कार्यक्रम को देखते ऐसा फैसला संभव है.

उत्तर प्रदेश में माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित हाई स्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा आगामी एक मार्च से शुरू होगी. माध्यमिक शिक्षा परिषद के इस ऐलान ने निर्वाचन आयोग पर भी दबाव बढ़ा दिया है. फरवरी के अंत तक चुनाव की सारी प्रक्रियाएं समाप्त करना मुश्किल दिख रहा है. हाई स्कूल परीक्षा 21 मार्च तक तथा इंटरमीडिएट परीक्षा आगामी 4 अप्रैल तक होगी. ऐसे में यह तय है कि अभिभावकों को चुनाव में वोट डालने की चिंता कम, बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान देना होगा. इसके कई राजनीतिक पहलू हो सकते हैं. माना जा रहा है कि फरवरी में चुनाव होने से सत्तारुढ़ मायावती सरकार को भी राजनीतिक फायदा हो सकता है. हाई स्कूल परीक्षा 21 मार्च तक तथा इंटरमीडिएट परीक्षा आगामी चार अप्रैल तक होगी. उन्होंने कहा कि हाई स्कूल परीक्षा में 36 लाख 82 हजार 421 तथा इंटरमीडिएट परीक्षा में 26 लाख 36 हजार 817 छात्र- छात्राएं पंजीकृत किए गए हैं. परीक्षा के लिए नौ हजार से अधिक केंद्र बनाए गए हैं. पिछले वर्ष की तुलना में इस साल की परीक्षा में पांच लाख 80 हजार 139 परीक्षार्थियों की वृद्धि हुई है.

Related Posts: