भोपाल, 8 मई, नभासं. राज्य में जो क्षेत्र पिछड़े हुए हैं उन क्षेत्रों में एसोचैम सरकार के साथ मिलकर काम करेगा. इससे राज्य के विकास के नए आयाम स्थापित होंगे. रोजगार के अवसर बढ़ेंगे.

यह बात आज यहां एसोसिएटेड चैम्बर्स ऑफ कामर्स एण्ड इन्डस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) के अध्यक्ष डीएस रावत ने पत्रकारों से कही. उन्होंने कहा कि ईयर-ऑन-ईयर दस प्रतिशत विकास दर मार्च 2011 और मार्च 2012 के बीच प्राप्त करने के साथ मध्यप्रदेश ने 5.8 लाख करोड़ रुपए के 836 लाइव इन्वेस्टमेंट परियोजनाओं को आकर्षित किया है. रावत ने बताया कि मध्यप्रदेश में एक स्ट्रेटजी पेपर के अनुमान के अनुसार कुल लाईव इन्वेस्टमेन्ट में से बिजली क्षेत्र ने सबसे बड़ा हिस्सा 54.1 प्रतिशत, मैनूफैक्चरिंग लगभग 20 प्रतिशत, सर्विसेस 11.6 फीसदी और रियल स्टेट 7.1 प्रतिशत निवेश को आकर्षित किया है.

उन्होंने बताया कि इन निवेशों में लगभग 51 प्रतिशत लागू हैं, जबकि 40 प्रतिशत निवेश घोषणा स्तर पर हैं. और 2.5 प्रतिशत परियोजनाओं का कार्यान्वयन विभिन्न कारणों की वजह से रूका हुआ है. रावत ने बताया कि राज्य में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए एसोचैम राज्य के दो जिलों में यह कार्य को जल्द आरंभ करेगा. उन्होंने कहा कि इससे किसानों की आर्थिक स्थति मजबूत होगी. रावत ने सरकार को क्लस्टर विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए मूल्य को कम करने की दक्षता में वृद्धि लाने की और छोटे-मध्यम उद्यमों में उत्पादन की गति बढ़ाने कि कोशिश करनी चाहिए.

Related Posts: