मायावती ने पेश किया रिजर्वेशन का फार्मूला

नई दिल्ली, 19 दिसंबर. यूपी के इलेक्शन से ठीक पहले 19 पर्सेंट मुस्लिम आबादी को रिझाने के लिए कोटे की सियासत जोर पकड़ चुकी है। संडे को चीफ मिनिस्टर मायावती ने मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन का अपना फॉर्म्युला पेश कर दिया।

केंद्र सरकार पहले ही इस मुद्दे पर आगे बढऩे का इरादा कर चूकी है। कांग्रेस इसकी जमकर पैरवी कर रही है। चुनाव की तारीखों का ऐलान इसी हफ्ते हो सकता है और कोड ऑफ कंडक्ट लागू हो जाएगा। ऐसे में एक इग्जेक्यूटिव ऑर्डर के जरिये केंद्र इसे लागू कर सकता है। मायावती की मांग है कि मुस्लिम कोटे के लिए ओबीसी कोटे की 27 पर्सेंट की सीमा संविधान संशोधन के जरिये बढ़ा दी जाए, यानी मौजूदा कोटे का फायदा उठा रहे ओबीसी का हिस्सा न घटे। मायावती ने लखनऊ में एक रैली में कहा कि केंद्र ने संविधान संशोधन किया तो हमारी पार्टी इसे सपोर्ट करेगी।  उन्होंने यह भी कहा कि रिजर्वेशन देने के लिए एक राष्ट्रीय नीति बनानी होगी, पूरे देश में एक सिस्टम काम करे। केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद पहले ही कह चुके हैं कि पिछड़े मुसलमानों को 27 पर्सेंट ओबीसी कोटे में शामिल करने पर जल्द फैसला होगा। सलमान यह भी भरोसा दिला चुके हैं कि इससे दूसरे ओबीसी समुदायों पर असर नहीं पडऩे दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अति पिछड़ों को 27 पर्सेंट कोटे के अंदर कोटा दिया जा सकता है। सलमान खुर्शीद ने यूपी के फर्रूखाबाद में यह बात कही थी, जहां मंच पर राहुल गांधी भी थे। कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी भी कहा है कि केंद्र में हमारी पार्टी की सरकार जल्द ही मुसलमानों के लिए कोटे का ऐलान करेगी। अगर सलमान खुर्शीद की कही बात पर अमल होता है तो मंडल कमिशन की सिफारिशों के आधार पर कोटे का जो चेहरा तय हुआ था, उसमें बड़ा बदलाव आ जाएगा।

Related Posts: